Sarkari Naukri: अब सिर्फ इन लोगों को ही मिलेगी सरकारी नौकरी, जानें सुप्रीम कोर्ट का नया फैसला – HerZindagi

Sarkari Naukri: अब सिर्फ इन लोगों को ही मिलेगी सरकारी नौकरी, जानें सुप्रीम कोर्ट का नया फैसला – HerZindagi

आज हम आपके साथ एक नई पोस्ट साझा करना चाहते हैं, जिसका शीर्षक है, जो लिखी गई है,

इस पोस्ट में हमने और अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की है, और इसके माध्यम से विशेष ज्ञान से लिखा गया है, जिससे यह और भी बन गई है।

Sarkari Naukri: अब सिर्फ इन लोगों को ही मिलेगी सरकारी नौकरी, जानें सुप्रीम कोर्ट का नया फैसला – HerZindagi

इसलिए, आगे बढ़ने से पहले, आपके लिए हमारी अन्य रोचक पोस्ट

Sarkari Naukri: सरकारी नौकरी लेना हर किसी का सपना होता है। इस संबंध में आए दिन नियम कायदे और सिमाएं तय होती रहते हैं। इसी तरह सुप्रीम कोर्ट ने भी सरकारी नौकरी के संबंध में हाल ही में एक ऐसा फैसला सुनाया है जिसे लेकर काफी चर्चा हो रही है। सुप्रीम कोर्ट ने उस नियम पर अपनी मुहर लगाई है जिसके बाद उन अभ्यर्थियों को सरकारी नौकरी से वंचित कर दिया जाएगा जिनके दो से अधिक बच्चे हैं। यह पूरा मामला राजस्थान से जुड़ा है। जिसपर सुप्रीम कोर्ट ने राजस्थान हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा है। आइए कोर्ट के इस फैसले के बारे में विस्तार से जानते हैं।

कहां से शुरू हुआ मामला

पूरा मामला राजस्थान का है। राजस्थान के राम लाल जाट ने 25 मई 2018 को राजस्थान पुलिस में कांस्टेबल के पद पर भर्ती के लिए आवेदान किया था लेकिन उनका आवेदन राजस्थान पुलिस अधीनस्थ सेवा नियम, 1989 के नियम 24(4) के तहत, कैंसिल कर दिया गया था। उन्हें इस पद के लिए अयोग्य घोषित कर दिया गया था। दरअसल, राजस्थान सेवा संसोधन नियम 2001 के निर्धारित मानदंड और प्रावधान के तहत आने वाले उम्मीदवार जिनके पास 1 जून 2002 के बाद 2 से ज्यादा बच्चे होंगे उनके सरकारी नौकरी के लिए अयोग्य माना जाएगा।

इसे भी पढ़ें-Free Courses: 12 महीने में सीखना चाहते हैं वेबसाइट बनाना, इस ई-कॉमर्स कोर्स के लिए कर सकते हैं रजिस्ट्रेशन

इस घटना के बाद राम लाल ने दर्ज कराया मामला

इसके खिलाफ रामलाल ने होईकोर्ट में याचिका दायर की थी। जिस पर 12 अक्टूबर 2022 को राजस्थान हाईकोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा था कि नियमों में कोर्ट हस्तक्षेप नहीं कर सकता है। कोर्ट के इस फैसले के बाद याचिका खारिज कर दिया गया था। हाईकोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट में इसे लेकर याचिका दायर की गई। इस मामले की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति सूर्यकांत, न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ती केवी विश्वनाथन की पीठ ने याचिकाकर्ता राम लाल जाट की याचिका को खारिज कर दिया। जज ने कहा कि हाईकोर्ट के इस फैसले में किसी तरह का हस्तक्षेप नहीं की जा सकती है। जारी नियम का पालन हर हाल में करना होगा। इस नियम के अनुसार परिवार नियोजन को बढ़ावा देना है, जिसका कोर्ट पूरी तरह से निर्वाहन करेगा। आपको बता दें, इसमें किसी तरह की छूट की कोई गुंजाइश भी नहीं है। (आस्ट्रेलिया जाकर पढ़ाई करने के फायदे)

इसे भी पढ़ें-साइंस, कॉमर्स या आर्ट्स से 12वीं उत्तीर्ण छात्रों के लिए ये कोर्स रहेंगे बेस्ट, यहां से चुन सकते हैं करियर

इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय भी आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। साथ ही,अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हर जिन्दगी के साथ

छवि क्रेडिट- फ्रीपिक, जागरण

की ओर एक नजर डालना न भूलें।

जब तक हम नई और आकर्षक सामग्री लाने का काम कर रहे हैं, तब तक हमारी वेबसाइट पर और भी लेख और अपडेट के लिए बने रहें। हमारे समुदाय का हिस्सा बनने के लिए धन्यवाद!

#Sarkari #Naukri #अब #सरफ #इन #लग #क #ह #मलग #सरकर #नकर #जन #सपरम #करट #क #नय #फसल #HerZindagi

Sharing is Caring...

Leave a Comment